bad mob

Light can be found in dark

but darkness never in light

The evil might be good

There is no evil in the goodness

 

Pleasure that calls pain is sinister

Learn first byself then choose master

Dream until your dream is not only yours alone

Cry for you have no eyes or sing as you are in darkness

 

Advertisements

Time bird

A hidden well inside the university

Leads to the leader of the Valkyrie

The electric eye gazes the entry

Two worlds intertwine when it catches somebody

 

They send their children here to learn to rule

They shouldn’t be blamed

Never-ending war has extinguished their flame

Only their belief, true or not can save them

 

Freebirds can rest only in the glares of summer

False footprints misguide to an endless tunnel

Who come back safe are known in the story

Being read right now by the kid next door and his family

 

Blunt Palm

 

Body for devil soul for god

That chiromancer gave you less

but more than tinsels the rest got

If only Night returns his shadows

The frost would warm

 

shine young die hard

One day he’ll ask what you did

with what you only grasped

the answer is the question

the question is the answer

 

Becoming one is easy

Becoming real one isn’t

Forget anything but love

When you forget everything

He remembers

 

 

Who always mattered

never mattered why or when

Thirst of time will never be spent

Workers who never worked for money

Killed cancers when the mountains whitened

 

 

 

ज़हरजाल

फ़नकार नए के लिए पुराना
जहाँ नेता सबसे पुराना
वैद्यो और गुरुओं का वहाँ ठिकाना
जाम का प्याला अगर गिर जाए
तो हुज़ूर ग़म ना करना
जाम के छलकने पर
बस शराबी ही रोता
शराब तो जमाना है पीता
पर हर कोई शराबी नहीं होता ||

जो सब जानता है
वो सब सुनता है
जो कुछ नहीं जानता
वो भी सुनता है
जिसके लिए ग़ज़ल बनीं
उसने सुनी की नहीं
” मैंने जो सिर्फ तुझे दिया
उसका तूने क्या किया… ?”
पूछेगा वो कभी न कभी ||

अंतिम अभय

नाशगढ़

अगर कोई मारे उसे मारना कर्म
मारने वाले से बदला दुष्कर्म
सही के लिए गलत करना धर्म
गलत के लिए सही करना अधर्म

वो मांगे दे न भीख
बिन मांगे मोती दे देता
हर कोई राम नहीं हर कोई रावण नहीं
कहीं तलाक़ बरी कहीं जौहर विधवा

मांसाहार जहाँ मज़े के लिए होता
वो चिड़ियाघर बन जाता
जो रात को जब बंद होता
तब ही जानवरों को शांत वातावरण मिल पाता

सही मानो तो बहुत ही सही
गलत मानो तो बहुत ही गलत
क्या सही और क्या गलत
पता लगाए बस गरीब सिपाही

    अंतिम अभय

R.I.P SHASHI KAPOOR

“सच ही कहा है पंछी इनको,

रात को ठहरें तो उड़ जाएं,

दिन को आज यहाँ कल वहाँ है ठिकाना |

 

बागों में जब-जब फूल खिलेंगे,

तब-तब ये हरजाई मिलेंगे,

गुज़रेगा कैसे पतझड़ का ज़माना|

 

परदेसियों से ना अँखियाँ मिलाना,

परदेसियों को है इक दिन जाना |”