चरमवेद  

ध्वनि  की  दीवार  टूटेगी  और  शांति  के द्वार  जब  खुलेंगे, जीवन  के  सारे  भेद  स्पष्ट  हो  जावेंगे जलाशयों  में प्यासे  रह  ईंटो  की  किताब लिखोगे   || तब  फिर  अपनी  हर  बेकार  वस्तु  का  कारण  सामने  पाओगे ||   रावण  जब  अपनी  लिखी  रामायण  का  राम  बना, तब  उसने  माना  महाभारत  के  गणेश कोई  और  नहीं  [...]

Advertisements

जन्मांतर

जैसे सूर्य कभी गीला नहीं हो सकता, यन्त्र कभी मानव नहीं बन सकता, और सत्य कभी मिथ्या नहीं लग सकता वैसे ही हमारा प्यार कभी मर नहीं सकता ।। सुख, दुःख, जुदाई, मिलन के मेले, क्रोध भले ही हमको सब भुलवा देवे , हम घर पहुंचेंगे फिरसे ये कभी ना भूलना तब पुराना याद कर [...]

रोगबुद्धि

अपने जवाब सारे मिल जाएंगे बात किसी से न हो पावेगी ||   बस दिल के काले मत होना बुराई तो किसी को भी घेर है सकती ||   कीचड़ में पत्थर भले न फेंकना पर घर की गन्दगी से दूर भागना नहीं ||   भगवान् पे विश्वास मत तोड़ना आस्था तो झूठी भी होती सही ||

Destination Infinity

Depone fallacy Prophesies of pawns Stirring the visions Teleport exits Luminas parcel bombs Accidents threaten White comatose reform For the awaited era Evolution doors jam   Orphanage of Sisters Where silent sirens rang Unregistered sins graved Crusade rebellion crown Lateral Inversions unshared Innocent suicides everywhere Freezing light crush souls Annihilation of Gold unfolds Reading an [...]

लिक्खाड़

 जिनके लिए उसने अपनी जान गवां दी, जो उसकी तरह थे, जब वो आज़ाद हुआ, तो उन्ही का दुश्मन बन गया || क्यूंकि उसकी मदद अब उनका पाश बन जाती जो उस पाश से बच निकलते उनके लिए वो शैतान बन जाता और जो फंसे रह गए अब उसकी वजह से और फंसते चले जाते [...]

मत्स्यकन्या

डूबने से बचाती पर तैरना ना सिखा पाती जो कभी नहीं डूबे उन्हें वो बचकानी लगती || अगर तुम कभी डूबने लगे तब तुम्हे बचाने वो आएगी तुम्हें किनारे लगा बिना कुछ कहे चली जायेगी || अगर तुम्हें कभी समुन्दर में फिर जाना पढ़े वो तुम्हें बचाने जरूर फिर से आयेगी || जिन्हें उसने बचाया [...]